Followers

Saturday, August 19, 2017

Demonetisation is a boost for Indian Economy’-against

Honourable jury members, learned teachers and dear friends, I am here to speak against the topic ‘Demonetisation is a boost for Indian Economy’.
While thinking about the topic I got extremely perturbed and perplexed why like frantic and fanatic people, my noble opponent is making so much hues and cries. I don’t find any prudent and powerful logic to eulogize and appreciate Demonetisation.
Demonetization is a natural and universal process. It is not bound to any particular time and space. Even a person, with a little knowledge of history of India as well as of world, is well acquainted with the facts that the coins and currencies changed in different ages from leaves, leather, metals and papers. It happened in all civilizations and dynasties of the world, not only in India. But my worthy opponents is singing eulogy song and showering words in favor of demonetization in Indian economy. Why does he not talk demonetization is boost for economy? Why only Indian economy?
If my rival friend means demonetization by our prime minister Narendra Modi on 8 Nov 2016, and if he is trying to issue a certificate counting all success stories of it, I with all might and belief avouch that it was black day in the history Indian economy and a shame for Indian people. India never saw such a dictatorial eccentricity to give sudden blow to the citizens by breaking their backbones.
The long and deadly tiresome lines in front of the ATM and banks gobbled and engulfed around 140 lives. The citizens clashed and collided together for nothing.  A catastrophic civil warlike situation was created by the insanity of one man. The narcissist man like Nero in Rome played the flute and left the country burning, full of chaos and calamity.  The patients died in the hospitals, the poor people and their children died of hunger, the parents could not deposit the school fees, the people could not travel to their dear relatives in the needs, the marriages suffered huge set back. Country’s millions of laborers strayed and starved  as the factories stopped, the construction works demolished and retail world crashed. The hungry and jobless people shrieked and sheltered on the roads.
The frivolous and bogus claim to curb corruption, stop terrorism, fetter fake currency and bring black money shattered into pieces. Nothing came in our hands. Even after one year the Indian people could not come out of the comma and attack of 8 Nov.
India is a democratic country. Democracy is by the people, of the people and for the people. The representative government should issue ordinance and constitute laws in interest of the people to bring smile on their faces and happiness in their lives. But demonetizations acted quite against it. The people bewailed, bled and died.
Even in such a disastrous and deadly results of demonetization, my worthy opponents is counting the beads in the prayer of their newly incarnated god. Don’t forget that the chief architect of Indian constitution Dr Ambedkar had warned the Indian government and Indian people in his last address to constituent assembly that hero worship is dangerous for democracy, we must abandon this tendency as soon as possible for the sake country, for the sake of people’.    
How long can we cherish the utopian bliss? One thing I want to make crystal clear that I oppose ‘Demonetization is boost for Indian economy’ not demonetization. I only stand dead against the silly slogans and coveted claims being hugely and highly propagated to earn applause on the nonsense act. All highly qualified and scholar gentries present here well know that it is not the first occasion of demonetization in India. Why did this only become the matter of life and death? Why did the policies of withdraw and deposit change every day and 24 times in a month?  Why did the ruling government had to issue clarification and circular each day? Have you ever seen such a fragile and freakish rulers in your life time? I believe, you have not seen.
On 15 august, the prime minister says that 56 lakh new tax payers were added since demonetization, but before some months the finance minister said 91 lakh,  RBI said 30 lakh and one independent survey said 5.6 lakh. Now it is up to you decide whom to believe. Why such false data are being given? It is only to shroud the failure of demonetization. They also realize their guilt, their mistake but they don’t dare to accept it. They have to get the political benefit in elections. So to accept the failure of demonetization is to suicide for them. It may expel and thrust them away from such aristocratic power and luxuries. this is the real fear.
The Nobel laureate in the field of economy Professor Amartya Sen spoke that the demonetization will bring no good to the country and the people, rather it will brings havocs and hazards.’ Later he was punished for his frank and outspoken statement and expelled from his esteemed office. Not only him, the prominent economists and experts of India as well as of world sharply criticized the demonetization policy of Indian government.  They censored it saying illogical, dictatorial, immature, novice and irresponsible.
Newyork Times hit hard by saying it a decision taken in ignonimity and imbecility and predicted about the loss of lives and property.
Did the terrorist activities stop? Did the killing of soldiers at the border stop? Did the black money and fake currency curtail? Did the corruption end? Have the job opportunities arisen?  Did the Indian economy and GDP increase?
According to the various national and international surveys and reports like MOODY, FINCH, WORLD BANK the Indian economy has suffered a huge hit and sharp set back. The life standard of the Indian people has lowered down and miserably worsened.
Can anybody forget how the foreign tourists spoke in front of media camera and by their personal videos over social medias like facebook, twitter and whatsapp against the demonetization step taken suddenly by Indian government. The inflow of money from such foreign visitors was damaged, dampened and discouraged.
In such horrendous torrent and tragedy of demonetization, mostly the common people felt the agonies and stress. They walked miles up to weeks with 500 and 1000 notes and returned barehanded and the starving family members and children waited impatiently and innocently. They slept empty stomach. The bank personnel sent the money straight to saffrons, aristocrats and leaders. By back door entry the banks played the gimmick of high corruption. And worthy opponents say that the corruption curtailed.
I feel sorry for him. I have deep sympathy with him to stand and support the wrong side.
Government is for the welfare of the people, not to squeeze their blood. Any policy or step of government, if it fails to fulfill the aspirations of the citizen should be critically condemned and criticized.
I call the dear citizens not to fall in snare of hero worship and be victim of dictatorial tyranny. Be faithful to your land, your great ancestors and their principles. Let the country not erode away under the unscrupulous insanities of narcissist people.
Whenever you feel that any power is trying to establish autonomy by trampling the interest of countrymen, stand and oppose strongly for the sake of humanity.
Let our dear country not fall in the hands of kind butchers and heartiest hitlers.

Thank you.

Wednesday, July 26, 2017

Demonetization is a boost for Indian Economy-(Favor)

Honorable jury members, learned teachers and all worthy participants, I am here to speak in favor of the topic ‘Demonetization is a boost for Indian Economy’.
I feel immense proud and pleasure to speak and vent out my ideas on the glorious and welcome step of ‘Demonetization’ in special context of India. To boost and trigger the economic development, demonetization is a general process of the country’s policies and strategies, may it be India or any other nation across the globe. To define demonetization in simple terms ‘it’s discontinuation of the current currency by announcing it illegal, invalid and out of use and prevalence by the people in the market.
The world’s eminent economists also back up intermittent withdrawal and discontinuing of the currencies. The father of economics, Adam Smith who wrote ‘The Wealth of Nations’ also opined in favor of demonetization. The father of modern India and the chief architect of Indian constitution Dr. Bhimrao Ambedkar favored demonetization in his research book ‘The Problem of Indian Rupee’ and he is the same personality whose ideas led the formation of centralized banking system ‘Reserve Bank of India’.
I am dead sure that my worthy opponents will try to spit out hundred of words in sharp criticism and cynicism against demonetization, it may be matter of wining debate for him, but for me, I have thousands of words in its eulogy and appreciation. I stand and support my side with all conviction and full confidence, as the voice is from the deep and core of heart and belief.
The day 8 November 2016 became indelible and immortal in Indian history when the daring and revolutionary step to demonetize 500 and 1000 was taken by our super hero, our dedicated and dynamic prime minister sh. Narendra Modi.
The newspapers and the news channels are full of events like corruption, money laundering, counterfeit and fake notes, terrorism and black money. These monsters are heavily affecting the health and growth of Indian economy. To curb terrorist and nexalite antisocial activities, to stop outflow of black money in foreign accounts and discourage inflow of fake currencies, demonetization is the best tool and way to fight such fatal situations. I firmly believe that it helps to speed up and accelerate the sloth and slumber economy of the country.   
The year 2016 was inglorious year for major developed and developing countries like America, France, Greek, China and others. They underwent economic slowdown and crisis. Most of them disallowed to debit amount from the bank accounts as the banks became bankrupt. The common amenities and commodities became scarce for the citizens. During that time Indian economy was not only stable but it kept on growing and growing. The demonetization was one among the greatest factors in it.
The funding and availing arms and ammunitions to the terrorist camp by the terrorist nations got a halt and hiccup. More importantly, the fake and counterfeit currency which was constantly and incessantly eroding and crumbling the Indian economy got a big setback. The persons in power and the illegal business and black marketing which scandalized and black spotted the dignity of India in front of the world, and propelled Indian economy backward was also hindered and hampered.
The healthy and sound economy of any country is the breath and backbone of all its development and living standard of the people. The total gold deposit and currency asset denote how strong and weak the economy is. The financial health of the country decides the health and hazards of its people.
With the development of human race, from nomadic era to modern age, and with unprecedented increase in the social interactions and financial transactions, he used the metallic coins and currencies after exchange and barter system. With the widened needs and demands of the changed times and scenarios, the coins and currencies got changed, modified and discontinued.
I want raise one public question over here to my worthy opponent. Does he have any other solid measure and tool to control such vicious malpractices prevailing in the country?  Does he have any other panacea to accelerate the speed of Indian economy? I firmly believe that he will feel feeble and fragile in answering my genuine and genial questions.
In such a vast secular, socialist democratic country, to maintain and maximize the pulse of growth and glory is not child’s play. I assuredly affirm that demonetization has done it. Today the world’s major countries are flocking to India to invest in the congenial big market and liberal economy. To equate with dollar value and compete in global business, such step of demonetization is a necessary step.

In place of mere frowning and finding faults we should rather boost the morale of policy makers and administrators so that they may feel quiet and comfortable to lay out plans and strategies in the interest of the nation and its citizens.

Friday, July 7, 2017

महा क्रांति




है महा क्रांति की लहर चली, परिवर्तन होने वाला है;
भारत की पावन भूमि का, इतिहास बदलने वाला है;

हो चूका तेरा अन्याय बहुत
बढ़ गया तेरा अत्याचार बहुत
सदियों से दीमक बन कर के
भारत का किया नुकसान बहुत
तेरी हस्ती को मिटाने का, जलजला भड़कने वाला है
भारत की इस.....................................

मानवता को तूने मार दिया,

इंसानियत का कत्लेआम किया;
भेदभाव तूने भर भर के,
हर घृणित घिनौना काम किया
नापाक तेरी हर हरकत का, हिसाब होने वाला है;
भारत की इस...............................


अब जाग उठा है स्वाभिमान,
उठ गयी बगावत की लहर;
जन आन्दोलन की जल गई मिशाल,
हर गली गली हर शहर शहर;
जालिम का जुल्म मिटाने का आगाज होने वाला है;
भारत की इस...............................

हो रही पुकार आन्दोलन की,

बह रही बयार आन्दोलन की;
जर्रे जर्रे में उठ रहा खुमार,
आन्दोलन की आन्दोलन की;
चल रही चीख चिग्घारों से, सबकी तकदीर बदलने वाला है
भारत की इस...............................


है रोक सका है कब किसने,
आंधी तूफ़ान की चालों से;
है झुका सका है कब किसने,
आजादी के मतवालों को;
हम स्वतंत्रता के सेनानी का संग्राम होने वाला है;
भारत की इस...............................



सागर भी न सुना होगा अब तक
अम्बर को भी पता न होगा अब तक
पर्वत पंक्षी पवन पृथ्वी को
तिनका भी खबर न होगा अब तक
उस विकट मनोरम परिवर्तन का आगाज होने वाला है;

परिवर्तन को न कोई रोक सका,
समय के कौन प्रतिकूल चला;
जिसने भी ऐसा सोचा भी,
खुद उसका ही सत्यानाश हुआ
सामने समय के आता जो बन जाता उसका निवाला है;
भारत की इस...............................





है खुला निमंत्रण मेरा सबको,
बन जाओ हिस्सा परिवर्तन का;
करके आबाद मानवता को,
सार्थक हो जाए इस जीवन का;
इतिहास में अमर हो जाने का, फिर न मौका मिलने वाला है

जालिमो ने अत्याचार किया,
जी भर के भ्रष्टाचार किया;
मानवता भी कांप उठे,
उसने ऐसा व्यवहार किया;
उस अन्यायी अत्याचारी का, दुर्दिन आने वाला है;
भारत की इस...............................





मजलूम गरीबों के गर्जन से,
गगन भी घबराएगा;
शोषितों के जन शैलाब से,
सुनामी भी शरमायेगा;
बदबूदार व्यवस्था का ऑपरेशन होने वाला है;
भारत की इस...............................


अंगार लिए हम हाथों में,
आक्रोश भरे हम बातों में;
मानवता कायम करने का,
तूफ़ान लिए जजबातों में;
व्यवस्था परिवर्तन हेतु भूचाल आने वाला है;





पानी से टकराकर पत्थर भी,
पानी में मिल जाता है;
विद्रोह बवंडर से तानाशाही
सिंहासन भी हिल जाता है;
आमूलचूल परिवर्तन का जलजला भड़काने वाला है
भारत की इस...............................




Tuesday, June 13, 2017

माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों की नेतृत्वशीलता का अध्ययन- SYNOPSIS PREPARED


प्रस्तावना-
नेतृत्व अर्थात लीडरशिप एक ऐसा शब्द है दिमाक में आते ही राजनीतिज्ञ अथवा राजनीति का बोध कराता है परन्तु वास्तव में ऐसा नहीं है। इसका दायरा असीमित है। नेतृत्व समाज में अत्यन्त महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे ही समाज की विविध क्षेत्रों जैसे सामाजिक, राजनीतिक, आर्थिक, प्रशासनिक एवं शैक्षिक आदि में एक नवीन परिवर्तन आता है। बिना नेतृत्व के कोई भी देश हो, समाज हो या संस्था हो सुचारू रूप से विकास या उन्नति नही कर सकते हैं। सभी को एक कुशल नेतृत्व व नेतृत्वकर्ता की आवश्यकता होती है। नेतृत्वकर्ता रेलगाड़ी के इंजन की तरह होता है, अगर वह अपना संतुलन व गति ठीक बनाये रखता है तो रेल गाड़ी अपने गंतव्य तक सुचारू रूप से पहुँच जाती है परन्तु इसकी विपरीत स्थिति होने पर रेलगाड़ी गंतव्य तक पहुँचने में असफल रहती है।
ठीक इसी प्रकार किसी भी देश, समाज या संसथान की बागडोर उसकी नेतृत्वकर्ता पर आधारित होता है। वह ही अपने जिम्मेदारियों को सही ढंग से समझते हुए अपने साथियों को उचित मार्गदर्शन कर अपने देश, समाज और संस्था को उन्नति के शिखर पर पहुँचा सकता है।

कालेज ये विद्यालय एक सामाजिक संस्था है जहाँ शिक्षक तथा अन्य कर्मचारी एक संगठित समूह के रूप में शैक्षिक कार्य में व्यस्त रहते हैं और अपने अपने कार्यों का वहन करते हैं। परन्तु जब शिक्षा के क्षेत्र में नेतृत्वकर्ता शब्द की बात आती है तो यह एक ऐसे व्यक्ति की ओर संकेत करता है जो प्रबंधात्मक पदवी पर है; जैसे विश्वविद्यालय का कुलपति, कॉलेज का प्रधानाचार्य, विभागाध्यक्ष, संस्था का निदेशक, विद्यालय का प्रधान अध्यापक, पर्यवेक्षक, निरीक्षक आदि।
इन सभी महत्वपूर्ण व्यक्तियों पर संस्थागत लक्ष्यों को प्राप्त करने का दायित्व है, अतः वे नेता के रूप में जाने जाते हैं।
माध्यमिक विद्यालयों में भी शिक्षक तथा विद्यालय के कर्मचारी अपने अपने उत्तरदायित्यों का वहन करते रहते हैं जिनका नेतृत्व विद्यालय का प्रधानाध्यापक करता है और उसका नेतृत्व तभी सफल माना जाता है जब सभी शिक्षक व कर्मचारी उसकी योग्यता, अनुभव, कार्यकुशलता तथा ज्ञान से प्रभावित होकर उसे सहयोग देते हैं और उसके आदेशों का हृदय से स्वागत करते हैं। उसकी योजनाओं को वे मन से स्वीकारते हैं, उसे सफल बनाने के लिए तत्पर रहते हैं।
प्रधानध्यापक भी अपनी समस्त कर्मचारियों व सहयोगियों की योग्यता, क्षमता, अनुभवों और विचारों का स्वागत करता है, उन्हें सम्मान देता है, उनको सुनता है व उनकी समस्यायों को सुलझाने में उनका मार्गदर्शन करता है तथा उनकी भूलों को सुधारने में सहयोग करता है। प्रधानाध्यपक विद्यालय की सभी जिम्मेदारियों को उचित कौशल व योग्यता के साथ वहन करता है।

प्रधानाध्यपक विद्यालय का नेता होता है, वह विद्यालय के समस्त व्यक्तियों के लिए आदर्श होता है। जिस प्रकार किसी भी समिति का मुखिया उसका सर्वेसर्वा होता है और उसके समस्त कार्यकर्ता उसका अनुसरण करते हैं और वे समिति को उन्नति की ओर ले जाते हैं और सन्निहित लक्ष्यों व उद्देश्यों की प्राप्ति करते हैं।
नेतृत्व शीलता का गुण व्यक्ति के समस्त पक्षों को प्रभावित करता है। नेतृत्व एक प्रक्रिया व दशा है जिसमे कोई व्यक्ति सामाजिक प्रभाव के द्वारा अन्य लोगों की सहायता लेते हुए एक सर्वनिष्ट कार्य सिद्ध करता है। शासन करना, निर्णय लेना, निर्देशन करना, आज्ञा देना आदि सब एक कला है, एक कठिन तकनीक है परन्तु अन्य कलाओं की तरह यह एक नैसर्गिक गुण है। प्रत्येक व्यक्ति में यह गुण या कला समान नही होती है। प्रबंधक एक कुशल नेतृत्व कर्ता के रूप में अपने सहयोगी कर्मचारियों से अपने निर्देशानुसार, योग्यतानुसार और क्षमतानुसार ही कार्य करवाता है। जैसा प्रबंधक का व्यवहार होता है, जैसे उसके आदर्श होते है, उसके कर्मचारी भी समतुल्य वैसे ही वयवहार निर्धारित करते हैं। इसलिए प्रबंधक का नेतृत्व जैसा होगा, कर्मचारी भी उसी के अनुरूप कार्य करेंगे।

प्रधानाध्यापक विद्यालय का मुखिया होता है। उसका व्यक्तित्व गुणों से विभूषित होना चाहिए। उसके व्यक्तित्व में सभी गुण विद्यमान होने चाहिए जो एक कुशल नेतृत्वकर्ता के लिए आवश्यक होते हैं क्योंकि उसके अनुकूल नेतृत्व पर ही विद्यालय किए सम्पूर्ण व्यवस्था व संचालन निर्भर करता है। कुशल नेतृत्व के आभाव में कोई भी संगठन न तो व्यवस्थित रूप से चल सकता है और न ही अपनी पूर्ण संरचना प्राप्त कर वांछित लक्ष्यों की पूर्ति की दिशा में प्रगति कर सकता है। कुशल नेतृत्व के आभाव में किसी भी संगठन की स्थिति कटी हुई पतंग की तरह होता है जो उद्देश्यहीन होकर आसमान में इधर उधर भटकते हुए जमीन पर आ गिरती है।
प्रस्तुत शोध में माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों की नेतृत्वशीलता का अध्धयन किया जा रहा है जो वर्तमान में एक महत्वपूर्ण विषय है।


तकनीकी शब्दों का परिभाषीकरण
माध्यमिक विद्यालय:-
माध्यमिक शब्द का अर्थ है- ‘मध्य की’ अर्थात् माध्यमिक शिक्षा, प्राथमिक और उच्च शिक्षा के मध्य की शिक्षा है। अंग्रेजी में इसके लिए सेकेंडरी (Secondary) शब्द का प्रयोग किया जाता है जिसका अर्थ है दूसरे स्तर की। पहले स्तर की प्राथमिक और उसके बाद दुसरे स्तर की सेकेंडरी शिक्षा। आज किसी भी देश में माध्यमिक शिक्षा, प्राथमिक और उच्च शिक्षा के बीच की कड़ी होती है। और अपने में पूर्ण इकाई होती है। यह बच्चों के निर्माण की शिक्षा है।
हमारे देश में माध्यमिक शिक्षा का श्री गणेश ईसाई मिशानिरियों ने किया। उन्होंने प्राथमिक विद्यालय खोले, तदुपरांत प्राथमिक शिक्षा प्राप्त बच्चों के लिए माध्यमिक विद्यालय खोले।

प्रधानाध्यापक:-
प्रधानाध्यापक अंग्रेजी शब्द प्रिंसिपल (Principal) का हिंदी रूपांतरण है। प्रधानाध्यापक शब्द दो शब्दों प्रधान + अध्यापक से मिलकर बना है इसका अर्थ है विद्यालय के समस्त अध्यापकों में पद में सबसे बड़ा या प्रमुख।
विद्यालय में प्रधानाध्यापक का पद अत्यंत महत्वपूर्ण तथा उत्तरदायित्वपूर्ण होता है। वह विद्यालय का सर्वोच्च अधिकारी होता है। किसी भी विद्यालय की उन्नति और अवनति में इसके प्रधानाध्यापक की बहुत बड़ी भूमिका होती है। वह विद्यालय का केंद्र होता है जिसके चारों ओर विद्यालय की समस्त गतिविधियाँ घूमती रहती हैं। उसके सभी क्रियाकलापों का प्रभाव अप्रत्यक्ष रूप से विद्यार्थियों, अध्यापकों व अन्य कर्मचारियों पर पड़ता है। अतः विद्यालय की प्रधानाध्यापक को आदर्श होना चाहिए। प्रधानाध्यापक की योग्यता, सोच एवं प्रशासकीय क्षमता पर ही विद्यालय की प्रगति निर्भर करती है।
पी.सी. रैन ने विद्यालय में प्रधानाध्यापक के स्थान के सम्बन्ध में निम्नलिखित विचार प्रकट किये हैं।
“घड़ी में प्रधान कमानी, मशीन प्रचक्र या जलयान में यंत्रीकरण को जो स्थान प्राप्त है वही स्थान किसी भी विद्यालय में प्रधानाचार्य का है।“
नेतृत्वशीलता:-
नेतृत्वशीलता को अंग्रेजी में लीडरशिप (Leadership) कहते हैं। विद्वानों ने नेतृत्व शीलता को भिन्न भिन्न प्रकार से स्पष्ट किया है। कभी कभी इसका अर्थ प्रसिद्धि से समझा जाता है। लोकतान्त्रिक दृष्टि से इसका अर्थ उस स्थिति से समझा जाता है जिसमे कुछ व्यक्ति स्वेच्छा से दूसरे व्यक्तियों के आदेशों का पालन कर रहें हों और कभी कभी कोई व्यक्ति शक्ति के आधार पर दूसरों से मनचाहा व्यवहार करवा लेने की क्षमता रखते हों तो उसे भी नेतृत्व के अंतर्गत सम्मिलित किया जाता है।
वास्तव में नेतृत्व का अर्थ है आगे आगे चलना। जो व्यक्ति कार्य को पूरा करने के लिए तथा दूसरों के मार्गदर्शन के लिए आगे चले, वही नेता है। अतः लोगों को अपने निर्देशानुसार चलाने की क्षमता ही नेतृत्व शीलता होती है।
अनुसंधान के उद्देश्य:-
शोध कत्री द्वारा अनुसंधान के निम्नलिखित उद्देश्य निर्धारित किये गए हैं-
१.     माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों की नेतृत्व शैली का अध्ययन करना।
२.     शहरी माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाधयापकों की नेतृत्व शैली का अध्ययन करना।
३.     ग्रामीण माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों की नेतृत्व शैली का अध्ययन करना।
४.     ग्रामीण तथा शहरी माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों की नेतृत्व शैली का अध्ययन करना।
५.     सरकारी माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों की नेतृत्व शैली का अध्ययन करना।
६.     निजी माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों की नेतृत्व शैली का अध्ययन करना।
७.     सरकारी व निजी माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों की नेतृत्व शैली का तुलनात्मक अध्ययन करना।
सम्बंधित साहित्य का अध्ययन:-
नेतृत्व गुणों के सम्बन्ध में हुए कार्य:-
नेतृत्व गुणों के सम्बन्ध में विभिन्न विद्वानों द्वारा शोध कार्य किये गए हैं-
बी.जी. सुधा, सी.डी. शिवकुमार स्वामी (१९९१)
उद्देश्य:-
प्राथमिक और हाई स्कूल के अध्यापकों की क्षमता पर संगठनिक परिवेश के प्रभाव की जांच करना।

निष्कर्ष:-
·        समक्षता के कुछ विशेष आयामों जैसे सम्प्रेषण और अंतःक्रिया की दृष्टि से अध्यापिकाएं अध्यापकों से अधिक सक्षम थीं।
·        प्राथमिक विद्यालयों के अध्यापकों के मूल्यांकन की क्षमता माध्यमिक विद्यालय के अध्यापकों से अधिक थी।
·        मुक्त परिवेश सभी प्रकार की सक्षमताओं के लिए अन्य परिवेश से अधिक अनुकूल पाया गया।
पूनम अग्रवाल (१९९४)
निष्कर्ष:-
·        माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापको का नेतृत्व व्यवहार सामान्य से उच्च स्तर का पाया गया।
·        माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक अपने कार्य से संतुष्ट पाए गए।
·        माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक कार्य संतुष्टि के क्षेत्र आर्थिक पक्ष एवं भावी उन्नति के अवसर से संतुष्ट पाए गए।
·        सरकारी व निजी माध्यमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापकों के नेतृत्व व्यवहार की तुलना करने पर सार्थक अंतर पाया गया।
     थॉमस माइकल (१९९५)
इन्होने अपने अध्ययन में निम्न निष्कर्ष दिए-
·        ये अध्यापकों के वातावरण में सुधार पर बल देते हैं।
·        छात्रों के कक्षागत वातावरण में सुधार पर बल देने की बात कही।
विजय कुमार व्यास (१९९९)
इन्होने अपने शोध के अध्ययन से यह निष्कर्ष निकाला कि-
·        प्रधानाध्यापक का साक्षात्कार लेने पर शहरी तथा ग्रामीण क्षेत्रों के प्रधानाध्यापक कार्योंन्मुखी पाए गए, अर्थात प्रधानाध्यापक स्वयं को कार्योंन्मुखी कहते हैं।
·        ग्रामीण क्षेत्र के विद्यालय में कार्यरत प्रधानाध्यापक का प्रबंधकीय व्यवहार कार्योंन्मुखी बताते हैं जबकि शिक्षकों के अनुसार प्रधानाध्यापक का प्रबंधकीय व्यवहार कार्यकर्तोंमुखी है।

प्रतिमा सिंह (२०१४)
निष्कर्ष:-
शोधकत्री के अध्ययन का मुख्य उद्देश्य माध्यमिक विद्यालयों में प्रधानाध्यापकों की नेतृत्व शैली को जानने का रहा। इनके निष्कर्ष निम्नलिखित हैं-
·        ग्रामीण तथा शहरी विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों की नेतृत्व शीलता में अंतर पाए गये।
·        निजी और सरकारी माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों की नेतृत्व शीलता में अंतर पाए गये।
परिकल्पना:-
प्रस्तुत शोध में शोध कार्य से पूर्व अधोलिखित परिकल्पना निश्चित की गई है।
·        ग्रामीण तथा शहरी माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों की नेतृत्व शैली में कोई सार्थक अंतर नही होता।
·        सरकारी तथा निजी माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों के नेतृत्व शैली में कोई सार्थक अंतर नही होता।
   

शोध अभिकल्प:-
किसी भी शोध के लक्ष्य तक पहुँचने के लिए आवश्यक है की शोध की प्रकृति के अनुरूप ही विधि प्राविधि एबम उपकरण हो। इसके आभाव में यह तथ्यहीन होता है। शोध अभिकल्प से तात्पर्य उस मार्ग से है जिस पर चलकर शोध से सम्बंधित सत्य की खोज की जा सके।
प्रस्तुत शोध के लिए सर्वेक्षण विधि का चयन किया गया है। सर्वेक्षण विधि द्वारा तथ्यों को अधिक तर्क संगत रूप से रखा जा सकता है। यह विधि किसी व्यक्ति विशेष से सम्बंधित न होकर समूह सम्बंधित होती है और इसमें अधिक से अधिक लोगों को सम्मिलित किया जा सकता है जिससे की आंकड़ो में विश्वसनीयता का प्रतिशत बढ़ जाता है।
न्यादर्श:-
माध्यमिक स्तर पर प्रधानाध्यापकों की नेतृत्व शैली का अध्ययन करने के लिए दस विद्यालयों का चयन करेंगे। प्रस्तुत शोध कार्य में स्तरीकृत यादृच्छिक न्यादर्श प्रणाली से न्यादर्श का चयन किया जायेगा। इसमें कुल दस विद्यालय तथा प्रत्येक विद्यालय से दस दस अध्यापकों को चयन किया जायेगा।

न्यादर्श
ग्रामीण अध्यापक

शहरी अध्यापक









निजी विद्यालय के अध्यापक
निजी विद्यालय के अध्यापक
सरकारी विद्यालय के अध्यापक
सरकारी विद्यालय के अध्यापक






चर:-
नियंत्रित चर
आश्रित चर
स्वतंत्र चर
माध्यमिक विद्यालय
प्रधानाध्यापक
नेतृत्व शीलता
     
शोध उपकरण:-
तथ्यपूर्ण सामग्री या दत्त जो अब तक अज्ञात है उनका अध्ययन ही महत्वपूर्ण है जिन्हें प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष दोनों तरह के स्रोत से प्राप्त किया जा सकता है। प्रत्येक प्रकार के अनुसन्धान के लिए नवीन दत्त संकलित करने के लिए अथवा नवीन क्षेत्र का उपयोग करते हुए कतिपय यंत्रों अथवा उपकरण की आवश्यकता होती है। इन्ही यंत्रों को उपकरण कहा जाता है।
प्रस्तुत अध्ययन में शोध कत्री द्वारा स्व निर्मित उपकरण का प्रयोग किया जायेगा। प्रधानाध्यापकों की नेतृत्व शैली जानने हेतु रेटिंग्स का निर्माण किया जायेगा।

संभावित निष्कर्ष:-
प्रस्तुत शोध में माध्यमिक विद्यालय में प्रधानाध्यापकों की भूमिका व नेतृत्व शीलता का अध्ययन किया जायेगा तथा आंकड़ों के आधार पर तथ्यों को प्रस्तुत किया जायेगा। शोध में ग्रामीण तथा शहरी, निजी व सरकारी प्रधानाध्यापकों के उत्तरदायित्व व नेतृत्व शीलता का तुलनात्मक अध्ययन द्वारा निष्कर्ष प्रस्तुत किये जायेंगे।

अध्ययन की परिसीमाएं:-
अल्प समयावधि में व्यापक अध्ययन दृष्टि से समस्या का सीमांकन अति आवश्यक है जिससे अनुसंधानकर्ता आवश्यक श्रम एवं संकलन से बच सकता है। प्रस्तुत अध्ययन को निम्नांकित प्रकार से परिसीमित किया जायेगा।
·        क्षेत्र की दृष्टि से-
§  प्रस्तुत अध्ययन कानपुर के चकेरी क्षेत्र के माध्यमिक विद्यालयों के अध्यापक एवं अध्यापिकयों तक सीमित किया जायेगा।
§  अध्ययन में ग्रामीण तथा शहरी माध्यमिक विद्यालयों को सम्मिलित किया जायेगा।
§  अध्ययन में निजी व सरकारी माध्यमिक विद्यालयों को सम्मिलित किया जायेगा।
·        प्रतिदर्श सम्बंधित परिसीमन:-
प्रस्तुत अध्ययन में न्यादर्श का चयन सेवाकाल, जाति, अनुभव आदि आधारों पर हो सकता है परन्तु समय और साधनों की सीमितता के कारण प्रतिदर्श में माध्यमिक विद्यालयों के १०० अध्यापक/ अध्यापिकयों तक सीमित है।

·        विद्यालय की दृष्टि से:-
प्रस्तुत अनुसन्धान में ऐसे अध्यापक/ अध्यापिकाओं का चयन किया जायेगा जो ग्रामीण तथा शहरी माध्यमिक विद्यालयों में शिक्षणरत हैं।

लघु शोध प्रबंध की प्रस्तावित संक्षिप्त रूपरेखा:-  
प्रथम अध्याय:- प्रस्तावना, तकनीकी शब्दों का परिभाषीकरण, अनुसन्धान के उद्देश्य
द्वितीय अध्याय:- सम्बंधित साहित्य का अध्ययन, परिकल्पना, शोध अभिकल्प
तृतीय अध्याय:- न्यायदर्श, चर, शोध उपकरण
चतुर्थ अध्याय:- संभावित निष्कर्ष, अध्ययन की परिसीमाएं
परिशिष्ट:- सन्दर्भ ग्रन्थ सूची
  
सन्दर्भ ग्रन्थ सूची:-
Borg Walter, R                  “Educational Research an Introduction New                                                                     York Longmans, Green & Co, Ltd. 1963.             Fox, DJ.                        “The Research Process in Education”, New York,
                                          Halt Rinehart and Winstons, 1969.
Gadgil, D.R. (1965)         Women in the working force in India, Asia
                                         Publishing House, Bombay
 Good, C.V.(1945)           “Dictionary of education”. Mc Graw Hill Boom
                                         Co. U.S.A.
Kakkar, S.B.(1998)          “A research into the adjustment problems of
                     students of Secondary education’.
गैरेट हेनरी, ई.         “शिक्षा एवं मनोविज्ञान में सांख्यिकी हिंदी अनुवाद”
                     कल्याणी पब्लिशर्स, लुधियाना
कपिल, एच.के.         “अनुसन्धान विधियाँ” हर प्रसाद भार्गव पुस्तक

                     प्रकाशन, आगरा १९८१